1 जनवरी से बगैर फास्टैग अब देना होगा दुगना टोल 

लखनऊ,अगर आप के पास चार पहिया वाहन है और आप ने अभी भी अपने वाहन का अभी तक फास्टैग नहीं ल‍िया है 31 दिसम्बर की रात से देश के सभी टोल प्लाजाओं की कैश लेन बंद हो जाएंगी और सभी टोल इलेक्ट्रानिक कलेक्शन प्रक्रिया में शामिल हो जायेंगे और आपको टोल प्लाज़ा पर दुगना शुल्‍क देना होगा और वही उत्तर प्रदेश में तो कई टोल प्लाजा पर बिना फ़ास्ट टैग के प्रवेश निषेध भी कर दिया जाएगा।सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित सभी टोल प्लाजा से कैश लेनदेन (नकदी) को बंद करने का निर्णय लिया है और 1 जनवरी 2020 से लागू भी करने जा रहे है जिसके बाद बिना फास्टैग वाले वाहन से किसी भी लेन में प्रवेश करने पर निर्धारित दर का दोगुना टोल देना होगा।सरकार का यह क़दम ईधन की बर्बादी को रोकने और जाम मुक्त सफर देने के मकसद से शुरू किया जा रहा है।एनएचआई के परियोजना निदेशक चिंतामणि द्विवेदी ने बताया कि एनएचएआई के मानकों के अनुसार स्थानीय वाहनों को भी छूट का प्रावधान नहीं है।फिलहाल स्थानीय वाहनों को विभिन्न टोल प्लाजा पर कैसे छूट दी जा रही है,इसकी समीक्षा की जाएगी।1 जनवरी से बगैर फास्टैग वाहनों से दोगुना टोल वसूला जाएगा।उन्होंने बताया कि स्थानीय वाहन स्वामियों को 20 किमी के दायरे में मासिक शुल्क के साथ फास्टैग रिचार्ज कराना अनिवार्य होगा, क्योंकि नई व्यवस्था में कैश लेन नहीं होगी।

क्या है फास्टैग

फास्‍टैग रेडियो फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन पर आधारित एक टैग है जो गाड़ी की विंडस्क्रीन पर लगता है. वाहनों पर लगा यह फास्‍टैग इलेक्ट्रॉनिक तरह से पढ़ा जाता है। आसान भाषा में समझें तो टोल प्‍लाजा पर लगे कैमरे इसे स्‍कैन कर सकेंगे और निर्धारित रकम अपने आप कट जाएगी। भुगतान के बाद टोल का फाटक खुल जाएगा और इससे किसी तरह की परेशानी नहीं होगी। अभी तक बिना फास्टैग वाली गाड़ियों को टोल प्लाजा पर कैश देना होता है। जिससे टोल प्लाजा पर जाम की स्थिति हो जाती है. जाम को कम करने के लिए फास्टैग की सुविधा की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *